Waqt ke Mod Pe Ye Kaisa Waqt Aya Hai

Waqt ke Mod Pe Ye Kaisa Waqt Aya Hai

वक़्त के मोड़ पे ये कैसा वक़्त आया है,
ज़ख़्म दिल का ज़ुबाँ पर आया है,
न रोते थे कभी काँटों की चुभन से,
आज न जाने क्यों फूलों की खुशबू से रोना आया है।

Waqt ke Mod Pe Ye Kaisa Waqt Aya Hai,
Zakham Dil Ka Juban Par Aya Hai,
N Rote The Kabhi Kaanto Ki Chuban Se,
Aaj Na jaane Kyu Phulo Ki Khushbo Se Rona Aya Hai.

Trending

More Posts