Best Gulzar Shayari in Hindi 2020 | गुलज़ार साहब की शायरी

Gulzar Shayari Collection Images

Gulzar Sahab is a Famous Film Director, Composer, & Poet. He Has Written Much Popular Poetry in Hindi, Urdu, Punjabi & Some Of Them Will Be Found In This Article. On Our Site, You Can Also Copy, Share & Download Gulzar Shayari in Hindi. The Credit Goes To All Of Them And Only To GULZAR JI

Gulzar Shayari in Hindi

Zinda Rahe To Is Baar Naya Saal
Gulzar Shayari In Hindi

जिंदा रहे तो इस बार नया साल आने की नहीं
ये साल जाने की पार्टी करेंगे


Zinda Rahe To Is Baar Naya Saal Ane Ki Nahi
Ye Saal Jane Ki Party Karenge


Kabhi Iska Dil Rakha

कभी इसका दिल रखा कभी उसका दिल रखा
इस कशमकश में भूल गए खुद का दिल कहां रखा


Kabhi Iska Dil Rakha Kabhi Uska Dil Rakha
Is Kashmkash Me Bhul Gaye Khud Ka Dil Kaha Rakha


Badi Muddat Se Milta Hai

बड़ी मुददत से मिलता है
बड़ी शिददत से चाहने वाला


Badi Muddat Se Milta Hai
Badi Shiddat Se Chahne Wala


Bura Waqt To Guzar Hi Jayega

बुरा वक़्त तो गुज़र ही जायेगा
बस वही लोग नहीं गुज़रते
जिनकी वजह से वो बुरा वक़्त आया है


Bura Waqt To Guzar Hi Jayega
Bas Vahi Log Nahi Guzarte
Jinki Vajah Se Vo Bura Waqt Aya Hai


Chubta Hu Sabko

चुबता हूँ सबको
कोई छूरा तो नहीं हूँ
तुम बताते हो जितना
उतना बुरा तो नहीं हूँ


Chubta Hu Sabko
Koi Chura To Nahi Hu
Tum Batate Ho Jitna
Utna Bura To Nahi Hu


Kisi Ko Asani Se Mat Mil Jana

किसी को आसानी से मत मिल जाना
लोग रास्ता समझने लगते है


Kisi Ko Asani Se Mat Mil Jana
Log Rasta Samajhne Lagte Hai


Dil Ke Mareej Hospital
Best Gulzar Shayari in Hindi

दिल के मरीज़ हॉस्पिटल
से जयादा ऑनलाइन मिलते है


Dil Ke Mareej Hospital
Se Jayada Online Milte Hai


Hum Apni Is Ada Par Gurur Karte Hai

हम अपनी इस अदा पर गुरुर करते है
किसी से प्यार हो या नफरत भरपूर करते है


Hum Apni Is Ada Par Gurur Karte Hai
Kisi Se Pyaar Ho Ya Nafrat Bharpur Karte Hai


Anjaan Parinde Ud Gaye Unka Kya Dukh

अंजान परिंदे उड़ गए उनका क्या दुःख
यहाँ तो पाले हुए दूसरों की छत पर उतर रहे है


Anjaan Parinde Ud Gaye Unka Kya Dukh
Yaha To Pale Hue Dusro Ki Chat Par Utar Rahe Hai


Rutba Kam Hai Magar Lajawaab Hai Mera

रुतबा कम है मगर लाज़वाब है मेरा
जो हर किसी के दर पर दस्तक दे
वो किरदार नहीं मेरा


Rutba Kam Hai Magar Lajawaab Hai Mera
Jo Har Kisi Ke Dar Par Dastak De
Vo Kirdaar Nahi Mera

Read Also – Friendship Shayari in HIndi

Bharosa Nahi Hai Kya Mujhpe

“भरोसा नहीं है क्या मुझपे”
ये लाइन बोलकर पता नहीं
कितने लोग धोखा दे देते है


“Bharosa Nahi Hai Kya Mujhpe”
Ye Line Bolkar Pata Nahi
Kitne Log Dhoka De Dete Hai


Social Distancing Un Logo Se Pucho

सोशल डिस्टैन्सिंग उन लोगो से पूछो
जो काम निकल जाने के बाद दुरी बना लेते है


Social Distancing Un Logo Se Pucho
Jo Kaam Nikal Jane Ke Baad Duri Bana Lete Hai


Batue Ko Kya Maloom Paise

बटुए को क्या मालूम पैसे उधार के है
वो तो बस फूला ही रहता है अपने गुमान में


Batue Ko Kya Maloom Paise Udhar Ke Hai
Vo To Bas Phula Hi Rehta Hai Apne Gumaan Me


Yahi To Zamane Ka Usool Hai

यही तो ज़माने का उसूल है
जरुरत हो तो खुदा
वरना बंदा फ़िज़ूल है


Yahi To Zamane Ka Usool Hai
Jarurat Ho To Khuda
Varna Banda Fizool Hai


Is Daur Ke Logo Me Vafa

इस दौर के लोगो में वफ़ा ढूंढ रहे हो
बड़े नादान हो साहब
ज़हर की शीशी में दवा ढूंढ रहे हो


Is Daur Ke Logo Me Vafa Dhund Rahe Ho
Bade Nadaan Ho Sahab
Zeher Ki Shishi Me Dawa Dhund Rahe Ho


Chahte Hai Vo Har Roz Ek Naya

चाहते है वो हर रोज़ एक नया चाहने वाला
ए खुदा मुझे हर रोज़ एक नई सूरत दे दे


Chahte Hai Vo Har Roz Ek Naya Chahne Wala
Aye Khuda Mujhe Har Roz Ek Nai Surat De De


Chu Na Paya Mere Andar Ki Udasi Ko

छू न पाया मेरे अंदर की उदासी को कोई
मेरे चेहरे ने इतनी अच्छी अदाकारी की


Chu Na Paya Mere Andar Ki Udasi Ko Koi
Mere Chehre Ne Itni Achi Adakari Ki


Khushiya Chahe Kisi Ke Sath Bhi Baant Le

खुशियाँ चाहे किसी के साथ भी बाँट ले पर
अपने गम किसी भरोसेमंद के साथ ही बांटने चाहिए


Khushiya Chahe Kisi Ke Sath Bhi Baant Le Par
Apne Gam Kisi Bharosemand Ke Sath Hi Baantne Chahiye


Hum Chai Peekar Kulhad
Gulzar Poetry

हम चाय पीकर कुल्हड़ नहीं तोड़ पाते
दिल तो खैर बहुत दूर की बात है


Hum Chai Peekar Kulhad Nahi Tod Pate
Dil To Khair Bahut Dur Ki Baat Hai


Ye To Dastur Hai

ये तो दस्तूर है
जो जितने पास है
वो उतना ही दूर है


Ye To Dastur Hai
Jo Jitne Paas Hai
Vo Utna Hi Dur Hai


Jara Si Baat Par Shauk Karna

ज़रा सी बात पर शौक करना मेरी आदत नहीं
गहरी जड़ का बरगद हूँ दीवार पर ऊगा पीपल नहीं


Jara Si Baat Par Shauk Karna Meri Aadat Nahi
Gehri Jad Ka Bargad Hu Deewar Par Uga Peepal Nahi


Mujhse Dhokha Diya Nahi

मुझसे धोखा दिया नहीं जाता
मै साथ दुनिया के चलू कैसे


Mujhse Dhokha Diya Nahi Jata
Mai Saath Duniya Ke Chalu Kaise


Acha Hu Ya Bura Hu

अच्छा हूँ या बुरा हूँ अपने लिए हूँ
मै खुद को नहीं देखता औरों की नज़र से


Acha Hu Ya Bura Hu Apne Liye Hu
Mai Khud Ko Nahi Dekhta Auro Ki Nazar Se


Mai Sabka Dil Rakhta

मै सबका दिल रखता हूँ और
सुनो मै भी एक दिल रखता हूँ


Mai Sabka Dil Rakhta Hu Aur
Suno Mai Bhi Ek Dil Rakhta Hu


Read Also – Attitude Shayari in Hindi 2020

Kaha Tha Na Ki Ek Din

कहा था ना की एक दिन मुझे फरक पड़ना ही बंद हो जायेगा
वो दिन आगया है आज़ाद हो तुम अपना ख्याल रखना


Kaha Tha Na Ki Ek Din Mujhe Farak Padna Hi Band Ho Jayega
Vo Din Aagaya Hai Aazad Ho Tum Apna Khyaal Rakhna


Khamoshiyan Bhi Rishtey Kha

खामोशियां भी रिश्ते खा जाती है
थोड़ा ही साही ताल्लुक़ जिंदा रखिये


Khamoshiyan Bhi Rishtey Kha Jaati Hai
Thoda Hi Sahi Talluk Jinda Rakhiye


Ishq Ki Apni Hi Bachkani Zid

इश्क़ की अपनी ही बचकानी ज़िद होती है
चुप करवाने के लिए भी वही चाहिए जो रुलाकर गया है


Ishq Ki Apni Hi Bachkani Zid Hoti Hai Chup Karwane
Ke Liye Bhi Vahi Chahiye Jo Rulakar Gaya Hai


Jane Wale Ko Jane Dijiye

जाने वाले को जाने दीजिये
आज रुक भी गया तो
कल चला जायेगा


Jane Wale Ko Jane Dijiye
Aaj Ruk Bhi Gaya To
Kal Chala Jayega


Mujhe Rishto Ki Lambi

मुझे रिश्तो की लंबी कतारों से मतलब नहीं
कोई दिल से हो मेरा तो एक शख्स भी काफी है


Mujhe Rishto Ki Lambi Kataro Se Matlab Nahi
Koi Dil Se Ho Mera To Ek Shaks Bhi Kaafi Hai


Vaise Duniya Me Aate Hai Sabhi

वैसे दुनिया में आते है सभी मरने के लिए
पर असल मौत उसकी है जिसका अफ़सोस ज़माना करे


Vaise Duniya Me Aate Hai Sabhi Marne Ke Liye
Par Asal Maut Uski Hai Jiska Afsos Zamans Kare


Insaan Yu Hi Nahi Matlabi Kaha

इंसान यूं ही नहीं मतलबी कहा जाता है
उसे अपने सुख से ज़यादा दूसरे के दुःख में मज़ा आता है


Insaan Yu Hi Nahi Matlabi Kaha Jata Hai
Use Apne Sukh Se Zayada Dusre Ke Dukh Me Maja Aata Hai


Muddte Guzar Gayi

मुद्द्ते गुज़र गयी हिसाब नहीं किया
न जाने अब किसके कितने रह गए है हम


Muddte Guzar Gayi Hisaab Nahi Kiya
N Jane Ab Kiske Kitne Reh Gaye Hai Hum


Meri To Khud Ki Kismat

मेरी तो खुद की किस्मत साथ नहीं देती
तुम तो “खैर ” तुम हो


Meri To Khud Ki Kismat Sath Nahi Deti
Tum To “Khair” Tum Ho

Patjhad Me Sirf Patte Girte Hai

पतझड़ में सिर्फ पत्ते गिरते है
नज़रो से गिरने का कोई मौसम नहीं होता


Patjhad Me Sirf Patte Girte Hai
Nazro Se Girne Ka Koi Mausam Nahi Hota


Lihaaz Nahi Rakhte Hum

लिहाज़ नहीं रखते हम संस्कारो का
लहजा बदल जाये अगर बात करने वालो का


Lihaaz Nahi Rakhte Hum Sanskaro Ka
Lehja Badal Jaye Agar Baat Karne Walo Ka


Usko Dukh Hi Nahi Judai Ka

उसको दुःख ही नहीं जुदाई का
बस ये दुःख ही खा गया मुझको


Usko Dukh Hi Nahi Judai Ka
Bas Ye Dukh Hi Kha Gaya Mujhko


Halaat Dikha Dete Hai Bate

हालात दिखा देते है बातें सुनना और सहना
वरना हर शख्स अपने आप में बादशाह होता है


Halaat Dikha Dete Hai Bate Sunna Aur Sehna
Varna Har Shaks Apne Aap Me Badshah Hota Hai


Mai Hi Manau Hamesha Tujhe

मै ही मनाऊ हमेशा तुझे कभी तू भी तो मना मुझे
महसूस तो करू कैसा लगता है जब यार अपना मनाता है


Mai Hi Manau Hamesha Tujhe Kabhi Tu Bhi To Mana Mujhe
Mehsus To Karu Kaisa Lagta Hai Jab Yaar Apna Manata Hai


Mujhe To Tofhe Me Apno Ka Waqt

मुझे तो तोफे में अपनों का वक़्त पसंद है
मगर आज कल इतने महंगे तोफे देता कौन है


Mujhe To Tofhe Me Apno Ka Waqt Pasand Hai
Magar Aaj Kal Itne Mehenge Tofhe Deta Kon Hai


Logo Ko Had Se Jayada Izzat Or Bharosa Doge

लोगो को हद से जयादा इज़्ज़त और भरोसा दोगे
वो उठाकर आपके मुँह पर बेइज़्ज़ती और धोखा ही मरेगा


Logo Ko Had Se Jayada Izzat Or Bharosa Doge
Vo Uthakar Aapke Muh Par Beizzati Or Dhokha Hi Marega


Usne Ye Sochkar Mujhe

उसने ये सोचकर मुझे अलविदा कह दिया
की गरीब है मोहब्बत के सिवा क्या देगा


Usne Ye Sochkar Mujhe Alvida Keh Diya
Ki Gareeb Hai Mohabbat Ke Siva Kya Dega


Paabandiya Jab Bhi Lagi Insano Par

पाबंदिया जब भी लगी इंसानो पर
बेजुबानों को बहुत सुकून मिला ..


Paabandiya Jab Bhi Lagi Insano Par
Bejubanoo Ko Bahut Sukun Mila..


Dard Ko Chod Kar

दर्द को छोड़ कर हार में तू राज़ी है
भूल रहा तेरे हाथो में अभी बाज़ी है


Dard Ko Chod Kar Haar Me Tu Razi Hai
Bhool Raha Tere Hatho Me Abhi Baazi Hai


Sunau Kya

सुनाऊ क्या? किस्सा थोड़ा अजीब है जिसने
खंज़र मारा है वही दिल के करीब है


Sunau Kya? Kissa Thoda Ajeeb Hai Jisne
Khanzar Mara Hai Vahi Dil Ke Karib Hai

Tension Kehti Hai Khudkushi
Gulzar Shayari in Hindi

टेंशन कहती है ख़ुदकुशी करले
मगर दिल कहता है माँ बहुत रोएगी यार


Tension Kehti Hai Khudkushi Karle
Magar Dil Kehta Hai Maa Bahut Royegi Yaar


Mohabbat Aur Vafa Gayi Tel Lene

मोहब्बत और वफ़ा गयी तेल लेने
पहले ये बताओ की कश्ती वहां कैसे डूबी
जहां पानी कम था


Mohabbat Aur Vafa Gayi Tel Lene
Pehle Ye Batao Ki Kashti Vaha Kaise Dubi
Jaha Pani Kam Tha


Khud Ko Kisi Ki Amanat Samajhkar

खुद को किसी की अमानत समझकर
हर वक़्त वफ़ादार रहना भी इश्क़ है


Khud Ko Kisi Ki Amanat Samajhkar
Har Waqt Vafadar Rehna Bhi Ishq Hai


Yahan Har Kisi Ko Dararo Me Jhankne

यहाँ हर किसी को दरारों में झाँकने की आदत है
दरवाज़े खोल दो कोई पूछने तक नहीं आएगा


Yahan Har Kisi Ko Dararo Me Jhankne Ki Aadat Hai
Darvaze Khol Do Koi Puchne Tak Nahi Ayega

Jo Sath Rehkar Bhi Sath Na Ho

जो साथ रहकर भी साथ न हो
वो दूर ही रहे तो अच्छा है


Jo Sath Rehkar Bhi Sath Na Ho
Vo Dur Hi Rahe To Acha Hai


Fursat Me Yaad Karna Ho To

फुरसत में याद करना हो तो मत करना
हम अकेले जरूर है मगर फ़िज़ूल नहीं


Fursat Me Yaad Karna Ho To Mat Karna
Hum Akele Jarur Hai Magar Fizool Nahi


Jab Apne Hi Parinde

जब अपने ही परिंदे किसी और के दाने के
आदि हो जाये तो इन्हे आज़ाद कर देना चाहिए


Jab Apne Hi Parinde Kisi Aur Ke Dane Ke
Aadi Ho Jaye To Inhe Azaad Kar Dena Chahiye


Kaash Koi Hume Bhi Aisa Chahe

काश कोई हमें भी ऐसा चाहे
जैसे कोई तकलीफ में सुकून चाहता है


Kaash Koi Hume Bhi Aisa Chahe
Jaise Koi Takleef Me Sukun Chahta Hai


Ishq Ki Ab Akhri Nasal Hai Hum

इश्क़ की अब आखरी नसल है हम
अगली पीड़ी को बस जिस्मों की ज़रूरत होगी


Ishq Ki Ab Akhri Nasal Hai Hum
Agli Peedi Ko Bas Jismo Ki Zarurat Hogi


Palat Kar Jawaab Dena

पलट कर जवाब देना
बेशक गलत बात है
लेकिन सुनते रहो तो लोग
बोलने की हदें भूल जाते है


Palat Kar Jawaab Dena
Beshak Galat Baat Hai
Lekin Sunte Raho To Log
Bolne Ki Hade Bhul Jate Hai

Read Also – Love Shayari Image


Tinka Sa Mai Or Samundar

तिनका सा मै और
समुंदर सा इश्क़
डूबने का डर और
डूबना ही इश्क़


Tinka Sa Mai Or
Samundar Sa Ishq
Dubne Ka Dar Or
Dubna Hi Ishq


Sochta Tha Dard Ki Daulat Se Ek

सोचता था दर्द की दौलत से एक मै ही मालामाल हूँ
देखा जो गौर से तो हर कोई रईस निकला


Sochta Tha Dard Ki Dolat Se Ek Mai Hi Malamaal Hu
Dekha Jo Gaur Se To Har Koi Raees Nikla


Na Ilaaj Hai Na Davai Hai

न इलाज है न दवाई है
ऐ इश्क़
तेरे टक्कर की बला आई है


Na Ilaaj Hai Na Davai Hai
Ae Ishq
Tere Takkar Ki Bala Aai Hai


Ab Mujhe Raas Aagaya

अब मुझे रास आगया है अकेलापन
अब आप अपने वक़्त का अचार डाल दीजिये


Ab Mujhe Raas Aagaya Hai Akelapan
Ab Aap Apne Waqt Ka Achaar Dal Dijiye


Vo Safar Bachpan Ke Ab Tak Yaad

वो सफर बचपन के अब तक याद आते है मुझे
सुबह जाना हो तो कहीं तो रात भर सोते न थे


Vo Safar Bachpan Ke Ab Tak Yaad Ate Hai Mujhe
Subah Jana Ho To Kahi To Raat Bhar Sote Na The


Mashwara To Khub Dete Ho Ki

मशवरा तो खूब देते हो की खुश रहा करो
कभी खुश रहने की वजह भी दे दिया करो


Mashwara To Khub Dete Ho Ki Khush Raha Karo
Kabhi Khush Rehne Ki Vajah Bhi De Diya Karo


Mujhe Kisi Ke Badal Jane Ka Koi

मुझे किसी के बदल जाने का कोई गम नहीं
बस कोई था जिससे ये उम्मीद नहीं थी


Mujhe Kisi Ke Badal Jane Ka Koi Gam Nahi
Bas Koi Tha Jisse Ye Umeed Nahi Thi

Read Also – Twinkle Twinkle Little Star Shayari


Log Kehte Hai Bhul Jao Use

लोग कहते है भूल जाओ उसे
कितना आसान है न मशवरा देना


Log Kehte Hai Bhul Jao Use
Kitna Aasaan Hai Na Mashvara Dena


Mai Gareeb Hu Sahab

मै गरीब हूँ साहब मुझे किसी का खौफ नहीं है
बाहर जाऊँगा तो बिमारी मार देगी अंदर रहूँगा तो भूख

Read Also – Ajeeb Hadsa Tha Teri Mohabbat Ka

Mai Gareeb Hu Sahab Mujhe Kisi Ka Khauf Nahi Hai
Bahar Jaaunga To Bimari Mar Degi Andar Rahunga to Bhukh

Bichadte Waqt Mere Sare Aib

बिछड़ते वक़्त मेरे सारे ऐब गिनाये उसने
सोचता हूँ जब मिला था तब कोनसा हुनर था मुझमे


Bichadte Waqt Mere Sare Aib Ginaye Usne
Sochta Hu Jab Mila Tha Tab Konsa Hunar Tha Mujhme


Kabhi kabhi Ki Mulakat

कभी कभी की मुलाकात अच्छी है
कदर खो देता है हर रोज़ का आना जाना

Read Also – Batein Sirf Achi Ya Buri Lagti

Kabhi kabhi Ki Mulakat Achi Hai
Kadar Kho Deta Hai Har Roz Ka Ana Jana


Tum Badle To Hum Bhi
Gulzar Shayari in Hindi

तुम बदले तो हम भी कहाँ पुराने से रहे
तुम आने से रहे तो हम भी बुलाने से रहे

Read Also – Alvida Gham-E-Yaar Teri Jaan

Tum Badle To Hum Bhi Kahan Purane Se Rahe
Tum Aane Se Rahe To Hum Bhi Bulane Se Rahe


Agar Bewafao Ke Sar Par Sing Hote

अगर बेवफाओं के सर पर सींग होते
तो मेरी वाली आज बारहसींगा होती


Agar Bewafao Ke Sar Par Sing Hote
To Meri Vali Aaj Barahsinga Hoti


Nasamajh Hai Vo Abhi Meri Baat Nahi Samjhega

नासमझ है वो अभी मेरी बात नहीं समझेगा
मेरी जगह नहीं है न मेरे हालात नहीं समझेगा


Nasamajh Hai Vo Abhi Meri Baat Nahi Samjhega
Meri Jagah Nahi Hai Na Mere Halaat Nahi Samjhega


Sabhi Ke Naam Par Nahi Rukti Dhadkane

सभी के नाम पर नहीं रूकती धड़कने
दिलो के भी कुछ उसूल हुआ करते है

Read Also – Corona Hone Par Bhi Apka Sath

Sabhi Ke Naam Par Nahi Rukti Dhadkane
Dilo Ke Bhi Kuch Usool Hua Karte Hai


Mujhe Lagta Tha Use

मुझे लगता था उसे मुझसे मोहब्बत है
कहा न लगता था

Read Also – Mere Katal Karne Ki Sajish

Mujhe Lagta Tha Use Mujhse Mohabbat Hai
Kaha Na Lagta Tha

Gulzar Ki Best Shayari

Sochkar Bazar Gaya Tha
New Gulzar Shayari in Hindi

सोचकर बाजार गया था अपने कुछ आंसू बेचने
हर खरीददार बोला अपनों के दिए तोफे बेचा नहीं करते

Read Also – Thook Kar Chatna Meri Aadat

Sochkar Bazar Gaya Tha Apne Kuch Aansu Bechne
Har Khariddar Bola Apno Ke Diye Tofe Becha Nahi Karte


Ek Shaks Jo Itna Satata Hai

एक शख्स जो इतना सताता है
सुकून भी न जाने क्यों उसी के पास आता है


Ek Shaks Jo Itna Satata Hai
Sukoon Bhi Na Jane Kyu Usi Ke Paas Ata Hai


Jo Sabke Hi Karib Ho

जो सबके ही करीब हो ,
उसको पाकर कोई कैसे
खुशनसीब हो..

Read Also – Wo Bewafa Thi Aur Mai

Jo Sabke Hi Karib Ho,
Usko Pakar Koi Kaise
Khushnaseeb Ho..


Dhage Bade Kamzor Chun Lete Hai Hum

धागे बड़े कमज़ोर चुन लेते है हम ,
और फिर पूरी उम्र
गांठ बांधने में निकल जाती है


Dhage Bade Kamzor Chun Lete Hai Hum,
Aur Fir Puri Umar
Ganth Bandhne Me Nikal Jati Hai


Chahne Walo Ko Nahi Milte
Gulzar Shayari in Hindi Image

चाहने वालो को नहीं मिलते चाहने वाले
हमने हर दगाबाज़ के साथ सनम देखा है


Chahne Walo Ko Nahi Milte Chahne Wale
Humne Har Dagabaaz Ke Sath Sanam Dekha Hai


Hum Afsos Kyo Kare Ki Koi

हम अफ़सोस क्यों करे की कोई हमे ना मिला
अफ़सोस तो वो करे जिन्हे हम ना मिले


Hum Afsos Kyo Kare Ki Koi Hume Na Mila
Afsos To Wo Kare Jinhe Hum Na Mile


Na Maang Kuch Jamane Se

ना मांग कुछ ज़माने से ये देकर फिर सुनाते है
किया एहसान जो एक बार वो लाख बार जताते है


Na Maang Kuch Jamane Se Ye Dekar Fir Sunate Hai
Kiya Ehsaan Jo Ek Baar Vo Lakh Bar Jatate Hai


Mere to Dard Bhi Auro Ke Kaam

मेरे तो दर्द भी औरों के काम आते है
मै रो पढू तो कई लोग मुसकुराते है


Mere to Dard Bhi Auro Ke Kaam Ate Hai
Mai Ro Padu to Kai Log Muskurate Hai


Humse Rishta Banaye Rakhna

हमसे रिश्ता बनाये रखना
हम वहाँ काम आते है
जहाँ सब साथ छोड़ जाते है


Humse Rishta Banaye Rakhna
Hum Vaha Kaam Ate Hai
Jaha Sab Sath Chod Jate Hai


Mai Vo Kyo Banu Jo Tumhe Chaiye
^^

मै वो क्यों बनू जो तुम्हे चाहिए
तुम्हे वो कबूल क्यों नहीं जो मै हूँ


Mai Vo Kyo Banu Jo Tumhe Chaiye
Tumhe Vo Kabul Kyo Nahi Jo Mai Hu


Mumkin Hai Mere Kirdar Me

मुम्किन है मेरे किरदार में बहुत सी खामिया होंगी
पर शुकर है किसी के जज़्बात से खेलने का हुनर नहीं आया


Mumkin Hai Mere Kirdar Me Bahut Si Khamiya Hongi
Par Shukar Hai Kisi Ke Jazbaat Se Khelne Ka Hunar Nahi Aya


Kabhi Kabhi Unse Bhi Dur Hona Padta Hai

कभी कभी उनसे भी दूर होना पड़ता है
जिनके साथ हम ज़िंदगी गुज़ारना चाहते थे


Kabhi Kabhi Unse Bhi Dur Hona Padta Hai
Jinke Sath Hum Zindagi Guzarna Chahte The


Kaun Deta Hai Umar Bhar Ka Sath

कौन देता है उम्र भर का साथ
लोग जनाज़े में भी कंधा बदलते है


Kaun Deta Hai Umar Bhar Ka Sath
Log Janaze Me Bhi Kandha Badalte Hai


कितने अजीब होते है ये मोहब्बत के रिवाज़ भी
लोग आप से तुम , तुम से जान और जान से अनजान बन जाते है


Kitne Ajeeb Hote Hai Ye Mohabbat Ke Rivaz Bhi
Log Aap Se Tum, Tume Se Jaan Aur Jaan Se Anjaan Ban Jate Hai


निकाल देते है औरों में ऐब जैसे खुद नेकियों के नवाब है
अपने गुनाहो पर डाल कर पर्दा कहते है ज़माना खराब है


Nikal Dete Hai Auro Me Aib Jaise Khud Nekiyo Ke Nawaab Hai
Apne Gunaho Par Dal Kar Parda Kehte Hai Zamana Kharaab Hai


Dusro Ko Itni Jaldi

दुसरो को इतनी जल्दी
माफ़ कर दिया करो
जितनी जल्दी आप
उपरवाले से अपने लिए
माफ़ी की उम्मीद रखते हो


Dusro Ko Itni Jaldi
Maaf Kar Diya Karo
Jitni Jaldi Aap
Uparwale Se Apne Liye
Mafi Ki Umeed Rakhte Ho


बिस्तर तक तो क्या कमाल इश्क़ निभाया उसने
मगर जब बात मंगलसूत्र की आयी तो क्या कमाल का मुँह बनाया उसने

Read Also – Jidhar Dekhu Teri Tasveer

Bistar Tak To Kya Kamaal Ishq Nibhaya Usne
Magar Jab Baat Managalsutr Ki Ayi To Kya Kamaal Ka Muh Banaya Usne


Gair Kyun Le ja rahe hai
Gulzar Shayari in Hindi Sad

गैर क्यों ले जा रहे है अपने कंधे पर
अरे हां मेरे अपने तो कब्र खोद रहे है


Gair Kyun Le ja rahe hai Apne Kandhe Par
Are Haa Mere Apne To Kabr Khod Rahe hai


Mai Tujhe Baar baar Isliye Samajhta Hu

मै तुझे बार बार इसलिए समझता हूँ
तुझे टुटा हुआ देखकर मै खुद भी टूट जाता हूँ


Mai Tujhe Baar baar Isliye Samajhta Hu
Tujhe Tuta Hua Dekhkar Mai Khud Bhi Tut Jata Hu


Bas Yahi "Dod" Hai Is Daur Ke Insano Ki

बस यही “दौड़ ” है इस दौर के इंसानो की
तेरी दीवार से ऊँची मेरी दीवार बने

Read Also – Kutte Hazaro Baar Bhoonkte Hai

Bas Yahi “Dod” Hai Is Daur Ke Insano Ki
Teri Dewaar Se Unchi Meri Dewaar Bane


Kuch To Baat Hai Mohabbat Me

कुछ तो बात है मोहब्बत में
वरना एक लाश के लिए
कोई ताज महल नहीं बनता


Kuch To Baat Hai Mohabbat Me
Varna Ek Laash Ke Liye
Koi Taj Mahal Nahi Banata

Final Words

Most Importantly If You Like Our Gulzar Shayari in Hindi Collection So Please Don’t Forget to Share & Follow Us on Facebook & Twitter For Always Updated and Leave a Comment.

Trending

More Posts