Gulzar Shayari in Hindi | Gulzar Best Shayari

Gulzar Shayari Collection Images

Gulzar Sahab is a Famous Film Director, Composer, & Poet. He Has Written Many Famous Poems In Hindi, Urdu, Punjabi & Some Of Them Will Be Found In This Post like Gulzar Shayari on Life. On Our Site, You Can Also Copy, Share & Download Gulzar Shayari In Hindi. The Credit Goes To All Of Them And Only To GULZAR JI

Gulzar Shayari Hindi

Hum Chai Peekar Kulhad
Gulzar Poetry

हम चाय पीकर कुल्हड़ नहीं तोड़ पाते
दिल तो खैर बहुत दूर की बात है


Hum Chai Peekar Kulhad Nahi Tod Pate
Dil To Khair Bahut Dur Ki Baat Hai


Ye To Dastur Hai

ये तो दस्तूर है
जो जितने पास है
वो उतना ही दूर है


Ye To Dastur Hai
Jo Jitne Paas Hai
Vo Utna Hi Dur Hai


Jara Si Baat Par Shauk Karna

ज़रा सी बात पर शौक करना मेरी आदत नहीं
गहरी जड़ का बरगद हूँ दीवार पर ऊगा पीपल नहीं


Jara Si Baat Par Shauk Karna Meri Aadat Nahi
Gehri Jad Ka Bargad Hu Deewar Par Uga Peepal Nahi


Mujhse Dhokha Diya Nahi

मुझसे धोखा दिया नहीं जाता
मै साथ दुनिया के चलू कैसे


Mujhse Dhokha Diya Nahi Jata
Mai Saath Duniya Ke Chalu Kaise


Acha Hu Ya Bura Hu

अच्छा हूँ या बुरा हूँ अपने लिए हूँ
मै खुद को नहीं देखता औरों की नज़र से


Acha Hu Ya Bura Hu Apne Liye Hu
Mai Khud Ko Nahi Dekhta Auro Ki Nazar Se


Mai Sabka Dil Rakhta

मै सबका दिल रखता हूँ और
सुनो मै भी एक दिल रखता हूँ


Mai Sabka Dil Rakhta Hu Aur
Suno Mai Bhi Ek Dil Rakhta Hu


Read Also – Attitude Shayari in Hindi 2020

Kaha Tha Na Ki Ek Din

कहा था ना की एक दिन मुझे फरक पड़ना ही बंद हो जायेगा
वो दिन आगया है आज़ाद हो तुम अपना ख्याल रखना


Kaha Tha Na Ki Ek Din Mujhe Farak Padna Hi Band Ho Jayega
Vo Din Aagaya Hai Aazad Ho Tum Apna Khyaal Rakhna


Khamoshiyan Bhi Rishtey Kha

खामोशियां भी रिश्ते खा जाती है
थोड़ा ही साही ताल्लुक़ जिंदा रखिये


Khamoshiyan Bhi Rishtey Kha Jaati Hai
Thoda Hi Sahi Talluk Jinda Rakhiye


Ishq Ki Apni Hi Bachkani Zid

इश्क़ की अपनी ही बचकानी ज़िद होती है
चुप करवाने के लिए भी वही चाहिए जो रुलाकर गया है


Ishq Ki Apni Hi Bachkani Zid Hoti Hai Chup Karwane
Ke Liye Bhi Vahi Chahiye Jo Rulakar Gaya Hai


Jane Wale Ko Jane Dijiye

जाने वाले को जाने दीजिये
आज रुक भी गया तो
कल चला जायेगा


Jane Wale Ko Jane Dijiye
Aaj Ruk Bhi Gaya To
Kal Chala Jayega


Mujhe Rishto Ki Lambi

मुझे रिश्तो की लंबी कतारों से मतलब नहीं
कोई दिल से हो मेरा तो एक शख्स भी काफी है


Mujhe Rishto Ki Lambi Kataro Se Matlab Nahi
Koi Dil Se Ho Mera To Ek Shaks Bhi Kaafi Hai


Vaise Duniya Me Aate Hai Sabhi

वैसे दुनिया में आते है सभी मरने के लिए
पर असल मौत उसकी है जिसका अफ़सोस ज़माना करे


Vaise Duniya Me Aate Hai Sabhi Marne Ke Liye
Par Asal Maut Uski Hai Jiska Afsos Zamans Kare


Insaan Yu Hi Nahi Matlabi Kaha

इंसान यूं ही नहीं मतलबी कहा जाता है
उसे अपने सुख से ज़यादा दूसरे के दुःख में मज़ा आता है


Insaan Yu Hi Nahi Matlabi Kaha Jata Hai
Use Apne Sukh Se Zayada Dusre Ke Dukh Me Maja Aata Hai


Muddte Guzar Gayi

मुद्द्ते गुज़र गयी हिसाब नहीं किया
न जाने अब किसके कितने रह गए है हम


Muddte Guzar Gayi Hisaab Nahi Kiya
N Jane Ab Kiske Kitne Reh Gaye Hai Hum


Meri To Khud Ki Kismat

मेरी तो खुद की किस्मत साथ नहीं देती
तुम तो “खैर ” तुम हो


Meri To Khud Ki Kismat Sath Nahi Deti
Tum To “Khair” Tum Ho

Pages: 1 2 3 4 5

Trending

More Posts